सिविल सोसाइटी केस अध्ययन : स्वच्छ वस्त्र अभियान (क्लीन क्लोथ्स कैंपेन)

"हम परिधान श्रमिकों को उनके अधिकार दिलाने में मदद करते हैं। इसके लिए सटीक आपूर्ति श्रृंखला की पारदर्शिता महत्वपूर्ण है, इसलिए हम अधिकारों के उल्लंघन को हल करने के लिए सही ब्रांडों और अन्य हितधारकों तक पहुंच सकते हैं।

उत्पादन फैक्ट्रियों की स्पष्ट और एकीकृत रजिस्ट्री होने से सही जानकारी प्राप्त करना आसान और तेज़ हो जाता है, और इसलिए समाधान के मार्ग को गति मिलती है।"

केस 1: स्वच्छ वस्त्र अभियान तेजी से शिकायतों का समाधान करता है

स्वच्छ वस्त्र अभियान (सीसीसी) अपने तत्काल अपील कार्य में ओ ए आर डेटा का उपयोग न सिर्फ श्रमिकों और यूनियनों द्वारा रिपोर्ट किए गए ठोस उल्लंघनों का जवाब देने में, बल्कि "बढ़ी हुई पारदर्शिता के जरिये जीवंत परिश्रमिक " परियोजना में भी करता है।

ओ ए आर डेटा ट्रेड यूनियनों को यह चिन्हित करने योग्य बनाता है कि कौन से ब्रांड किन कारखानों से सोर्सिंग कर रहे हैं। एक यूनियन लीडर की बर्खास्तगी के बाद, इस जानकारी का उपयोग ट्रांसपेरेंसी प्लेज के डेटा के संयोजन में किया गया और पता चला कि ब्रांड चार बहु-हितधारक पहलों (एम एस आई) का सदस्य भी था। सीसीसी के परामर्श से, संघ ने एम एस आई को चुना जो शिकायत तंत्र पर सबसे तेज प्रतिक्रिया समय के लिए जाना जाता है और इस मुद्दे को तेजी से हल करने में सक्षम था। पांच दिनों के भीतर, यूनियन नेता को उनकी नौकरी पर बहाल कर दिया गया, जिसमें बकाया वेतन भी शामिल था।

सभी भागीदारों की संतुष्टि पर यह केस बंद कर दिया गया।

ओ ए आर के माध्यम से कारखानों की खोज ब्रांड वेबसाइटों के व्यक्तिगत वेबसाइटों पर खोज के मुक़ाबले एक बार फिर बहुत तेज साबित हुई।"

"यह पता चला है कि ओएआर के माध्यम से एक कारखाने की खोज करना अलग-अलग ब्रांडों की वेबसाइटों के माध्यम से इसे खोजने से बहुत तेज है।"

केस 2: स्वच्छ वस्त्र अभियान उन ब्रांडों की पहचान करता है जो ऐसी कारखानों से सोर्सिंग करते हैं जहां श्रमिकों को वकील की आवश्यकता होती है

दिसंबर 2018 और जनवरी 2019 में, बांग्लादेश में कम परिश्रमिक और नई न्यूनतम वेतन वृद्धि का विरोध करते हुए सार्वजनिक प्रदर्शन में भाग लेने के कारण बर्खास्त किया गया, काली सूची में डाला गया और उन पर मनगढ़ंत आपराधिक आरोप लगा दिये गए।

बंगलादेशी कारखाना मालिकों से सहयोग न मिल पाने के बाद स्वच्छ वस्त्र अभियान और अन्य ने उन ब्राण्ड्स का रुख किया, जो इन फैक्ट्रियों से माल लेते थे और उनसे अनुरोध किया कि वे इस उत्पीड़न का समाधान अपनी आपूर्ति श्रृंखला में करें।

ओ ए आर एवं अन्य स्रोतों का इस्तेमाल करने से पता चला कि 20 ब्राण्ड्स ऐसी 30 फैक्ट्रियों से माल लेते थे, जो श्रमिक दमन में लगी हुई थीं।

2020 की शुरुआत तक, श्रमिकों के विरुद्ध 14 मामलों को अदालत ने खारिज कर दिया। इनमें से श्रमिकों की एक बड़ी संख्या ऐसे कारखानों में काम करती थी, जिनके खरीदार बड़े ब्राण्ड्स थे। इन ब्राण्ड्स ने कारखाना प्रबंधन का ध्यान इन मुद्दों की ओर आकर्षित किया। इसके विपरीत, लंबित अधिकांश मामले, उन कारखानों द्वारा दायर किए गए थे जहां किसी बड़े खरीदार की पहचान नहीं की जा सकी।

"पारदर्शी आपूर्ति श्रृंखला श्रमिकों को अपने ही देशों में विद्वेषपूर्ण सत्ता संरचना को नज़रअंदाज़ करने का एक महत्वपूर्ण हथियार देती है और ब्रांडों को उनकी आपूर्ति श्रृंखला में गलतियों को ठीक करने का मौका देती है, जिसके बारे में वे अक्सर तब तक नहीं जानते थे जब तक कि स्वच्छ वस्त्र अभियान इसपर ब्राण्ड्स का ध्यान नहीं आकृष्ट करता था। बांग्लादेश में प्रमुख सोर्सिंग वॉल्यूम वाले ब्रांड जो अपने कारखाने के स्थानों का खुलासा नहीं कर रहे हैं, वे श्रमिकों को उनके मौकों से वंचित कर रहे हैं।

पॉल रोलैण्ड, पारदर्शिता समन्वयक, स्वच्छ वस्त्र अभियान

Image shows the logo of Clean Clothes Campaign.

स्वच्छ वस्त्र अभियान एक वैश्विक गठबंधन है जो वैश्विक परिधान एवं खेल-परिधान उद्योगों में काम करने की स्थिति में सुधार और श्रमिकों को सशक्त बनाने के लिए समर्पित है